पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? | Ecosystem in Hindi Structure, Types

हैलो दोस्तों आज हम पढ़ेंगे की पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? Ecosystem in Hindi क्या है, पारिस्थितिकी तंत्र के प्रकार (Type of Ecosystem), स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Terrestrial Ecosystem) जलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Aquatic Ecosystem), पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना (Ecosystem Structure) आदि के बारे में तो चलिए हम पढ़ना सुरु करते है की पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? Ecosystem in Hindi

इस पोस्ट में क्या है ?

पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? (What is Ecosystem in Hindi)

Ecosystem पारिस्थितिकी की संरचनात्मक और कार्यात्मक इकाई है जहां जीवित जीव एक दूसरे और आसपास के पर्यावरण के साथ बातचीत करते हैं। “Ecosystem” शब्द पहली बार 1935 में एकEnglish botanist AG Tansley द्वारा गढ़ा गया था।

पारिस्थितिकी तंत्र के प्रकार (Type of Ecosystem)

एक पारिस्थितिकी तंत्र छोटा हो सकता है, या एक महासागर जितना बड़ा हो सकता है, जो हजारों मील में फैला हुआ है। Ecosystem दो प्रकार का होता है:

1. स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Terrestrial Ecosystem)
2. जलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Aquatic Ecosystem)

1. स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Terrestrial Ecosystem)

स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र विशेष रूप से भूमि आधारित Ecosystem हैं। विभिन्न geologist क्षेत्रों के आसपास वितरित विभिन्न प्रकार के स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र हैं। वे इस प्रकार हैं:

(a) वन पारिस्थितिकी तंत्र (Forest Ecosystem)
(b) घास के मैदान पारिस्थितिकी तंत्र (grassland Ecosystem)
(c) टुंड्रा पारिस्थितिक तंत्र (Tundra Ecosystem)
(d) डेजर्ट इकोसिस्टम (Desert Ecosystem)

(a) वन पारिस्थितिकी तंत्र (Forest Ecosystem)

एक Forest Ecosystem में कई पौधे, जानवर और सूक्ष्मजीव होते हैं जो पर्यावरण के abiotic factors के समन्वय में रहते हैं। वन पृथ्वी के तापमान को बनाए रखने में मदद करते हैं और प्रमुख carbon sinks हैं।

(b) घास के मैदान पारिस्थितिकी तंत्र (grassland Ecosystem)

एक घास के मैदान के Ecosystem में, वनस्पति पर घास और जड़ी-बूटियों का प्रभुत्व होता है। समशीतोष्ण घास के मैदान, सवाना घास के मैदान घास के मैदान के Ecosystem के कुछ उदाहरण हैं।

(c) टुंड्रा पारिस्थितिक तंत्र (Tundra Ecosystem)

Tundra Ecosystem पेड़ों से रहित हैं और ठंडी जलवायु में या जहां वर्षा कम होती है, वहां पाए जाते हैं। ये वर्ष के अधिकांश समय बर्फ से ढके रहते हैं। आर्कटिक या पर्वत शिखर में Ecosystem Tundra प्रकार का है।

(d) डेजर्ट इकोसिस्टम (Desert Ecosystem)

दुनिया भर में रेगिस्तान पाए जाते हैं। ये बहुत कम वर्षा वाले क्षेत्र हैं। दिन गर्म और रातें ठंडी होती हैं।

2. जलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Aquatic Ecosystem)

Aquatic Ecosystem पानी के शरीर में मौजूद Ecosystem हैं। इन्हें आगे दो प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है

(a) मीठे पानी का पारिस्थितिकी तंत्र (Freshwater Ecosystem)
(b) समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र (Marine Ecosystem)

(a) मीठे पानी का पारिस्थितिकी तंत्र (Freshwater Ecosystem)

Freshwater Ecosystem एक Aquatic Ecosystem है जिसमें झीलें, तालाब, नदियाँ, नदियाँ और आर्द्रभूमि शामिल हैं। Marine Ecosystem के विपरीत इनमें नमक की मात्रा नहीं होती है।

(b) समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र (Marine Ecosystem)

Marine Ecosystem में समुद्र और महासागर शामिल हैं। मीठे पानी के Ecosystem की तुलना में इनमें नमक की मात्रा अधिक होती है और जैव विविधता अधिक होती है।

पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना (Ecosystem Structure)

Ecosystem Structure जैविक और अजैविक दोनों घटकों के संगठन द्वारा विशेषता है। इसमें हमारे पर्यावरण में ऊर्जा का वितरण शामिल है। इसमें उस विशेष वातावरण में प्रचलित जलवायु परिस्थितियों को भी शामिल किया गया है।

एक Ecosystem Structure को दो मुख्य घटकों में विभाजित किया जा सकता है,

(1.) जैविक घटक (Biological Component)
(2.) अजैविक घटक (Abiotic Components)

Ecosystem में जैविक और अजैविक घटक परस्पर जुड़े हुए हैं। यह एक खुली प्रणाली है जहां ऊर्जा और घटक सीमाओं के पार प्रवाहित हो सकते हैं।

(1.) जैविक घटक (Biological Component)

Biological Component एक Ecosystem में सभी जीवन को संदर्भित करते हैं। पोषण के आधार पर, जैविक घटकों को स्वपोषी, विषमपोषी और मृतपोषी (या अपघटक) में वर्गीकृत किया जा सकता है।

(2.) अजैविक घटक (Abiotic Components)

Abiotic Components Ecosystem के निर्जीव घटक हैं। इसमें हवा, पानी, मिट्टी, खनिज, धूप, तापमान, पोषक तत्व, हवा, ऊंचाई, मैलापन आदि शामिल हैं।

पारिस्थितिकी तंत्र के कार्य (Functions of Ecosystem)

  • यह आवश्यक पारिस्थितिक प्रक्रियाओं को नियंत्रित करता है, जीवन प्रणालियों का समर्थन करता है और स्थिरता प्रदान करता है।
  • यह जैविक और अजैविक घटकों के बीच पोषक तत्वों के चक्रण के लिए भी जिम्मेदार है।
  • यह पारिस्थितिकी तंत्र में विभिन्न पोषी स्तरों के बीच संतुलन बनाए रखता है।
  • यह जीवमंडल के माध्यम से खनिजों को चक्रित करता है।
  • अजैविक घटक कार्बनिक घटकों के संश्लेषण में मदद करते हैं जिसमें ऊर्जा का आदान-प्रदान शामिल होता है।
  • उत्पादकता – यह बायोमास उत्पादन की दर को दर्शाता है।
  • ऊर्जा प्रवाह – यह अनुक्रमिक प्रक्रिया है जिसके माध्यम से ऊर्जा एक पोषी स्तर से दूसरे पोषी स्तर तक प्रवाहित होती है। सूर्य से प्राप्त ऊर्जा उत्पादकों से उपभोक्ताओं तक और फिर डीकंपोजर और अंत में वापस पर्यावरण में प्रवाहित होती है।
  • अपघटन – यह मृत कार्बनिक पदार्थों के टूटने की प्रक्रिया है। ऊपरी मिट्टी अपघटन के लिए प्रमुख स्थल है।
  • पोषक चक्रण – एक पारिस्थितिकी तंत्र में विभिन्न जीवों द्वारा उपयोग के लिए विभिन्न रूपों में पोषक तत्वों का उपभोग और पुनर्चक्रण किया जाता है।

इन्हे भी पढ़े

अगर आपने Ecosystem in Hindi को यहाँ तक पढ़ा है तो मुझे पूरी तरह उम्मीद है की आपको Ecosystem in Hindi अच्छी तरह से समझ में आ गया होगा| इस Artical में अगर आपको कोई भी Problem हो तो हमें Comment के माध्यम से पूछ सकते है | अगर आपको यह Artical अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे

Ecosystem in Hindi FAQ

पारिस्थितिकी तंत्र क्या है?

पारिस्थितिकी तंत्र अपने पर्यावरण के निर्जीव घटकों के संयोजन में जीवित जीवों का समुदाय है, जो एक प्रणाली के रूप में परस्पर क्रिया करते हैं।

पारिस्थितिक तंत्र के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

पारिस्थितिकी तंत्र के विभिन्न प्रकारों में शामिल हैं:
स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र
वन पारिस्थितिकी तंत्र
घास का मैदान पारिस्थितिकी तंत्र
रेगिस्तानी पारिस्थितिकी तंत्र
टुंड्रा पारिस्थितिकी तंत्र
मीठे पानी का पारिस्थितिकी तंत्र
समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र

पारिस्थितिक तंत्र के कार्यात्मक घटक क्या हैं?

एक पारिस्थितिकी तंत्र के चार मुख्य घटक हैं:
(I) उत्पादकता
(Ii) अपघटन
(Iii) ऊर्जा प्रवाह
(Iv) पोषक चक्रण

हम किस पारिस्थितिकी तंत्र में रहते हैं?

हम एक स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र में रहते हैं। यह वह पारिस्थितिकी तंत्र है जहां जीव भू-आकृतियों पर परस्पर क्रिया करते हैं। स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र के उदाहरणों में टुंड्रा, टैगा और उष्णकटिबंधीय वर्षावन शामिल हैं। रेगिस्तान, घास के मैदान और समशीतोष्ण पर्णपाती वन भी स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र का निर्माण करते हैं।

पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना क्या है?

पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना में पर्यावरण के जीव और भौतिक विशेषताएं शामिल हैं, जिसमें किसी विशेष आवास में पोषक तत्वों की मात्रा और वितरण शामिल है। यह उस क्षेत्र की जलवायु परिस्थितियों के बारे में भी जानकारी प्रदान करता है।

विश्व का सबसे बड़ा पारिस्थितिकी तंत्र कौन सा है?

विश्व का सबसे बड़ा पारितंत्र जलीय पारितंत्र है। इसमें मीठे पानी और समुद्री पारिस्थितिक तंत्र शामिल हैं। यह पृथ्वी की सतह का 70% हिस्सा है।

पारितंत्र का प्रमुख कार्य क्या है?

पारिस्थितिकी तंत्र पर्यावरण प्रणाली की कार्यात्मक इकाई है। अजैविक घटक कार्बनिक घटकों के संश्लेषण के लिए मैट्रिक्स प्रदान करते हैं। इस प्रक्रिया में ऊर्जा का आदान-प्रदान शामिल है।

एक अच्छा पारिस्थितिकी तंत्र क्या बनाता है?

एक अच्छे पारिस्थितिकी तंत्र में देशी पौधे और पशु प्रजातियां एक दूसरे और पर्यावरण के साथ परस्पर क्रिया करती हैं। एक स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र में एक ऊर्जा स्रोत और डीकंपोजर होते हैं जो मृत पौधों और पशु पदार्थों को तोड़ते हैं, मिट्टी में आवश्यक पोषक तत्व लौटाते हैं।

पारिस्थितिक तंत्र में निर्जीव वस्तुओं में क्या शामिल है?

एक पारिस्थितिकी तंत्र में निर्जीव चीजों में हवा, हवा, पानी, चट्टानें, मिट्टी, तापमान और धूप शामिल हैं। इन्हें पारिस्थितिक तंत्र के अजैविक कारकों के रूप में जाना जाता है।

3 thoughts on “पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? | Ecosystem in Hindi Structure, Types”

Leave a Reply