व्याकरण किसे कहते हैं?

किसी भाषा को शुद्ध-शुद्ध बोलना, समझना तथा लिखना व्याकरण कहलाता है। सभी भाषाओ का अलग-अलग व्याकरण होता है। जिसे समझने के बाद हम उस भाषा को शुद्ध-शुद्ध बोल अथवा लिख सकते है।

भाषा किसे कहते हैं?

भाषा शब्द का निर्माण संस्कृत की ‘भाष’ धातु से हुआ है . इस धातु का अर्थ है, वाणी की अभिव्यक्ति  भाषा सार्थक ध्वनियों के मेल से बनती है।

भाषा क्या है ? Bhasha Kya Hai

भाषा एक ऐसी प्रक्रिया है. जिसमे एक व्यक्ति अपनी भावनाओ और मनोदशा को व्यक्त करने के लिए विभिन्न माध्यम जैसे गुस्सा, नाराजगी, प्यार, उपकार, मोह, आदेश, शिष्टाचार

भाषा की परिभाषा Bhasha Ki Paribhasha In Hindi

भाषा वह साधन है, जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर या पढ़कर अपने मन के भावों या विचारों को दूसरो के समक्ष प्रकट करता है।

भाषा कितने प्रकार का होता है Types of Language

भाषा के निम्नलिखित तीन प्रकार होते है 1. मौखिक भाषा (Oral Language) 2. लिखित भाषा (Written Language) 3. सांकेतिक भाषा (Symbolic / Indicative Language)

मौखिक भाषा (Oral Language)

जब दो या दो से अधिक व्यक्ति आमने-सामने बैठ कर परस्पर बातचीत करते हैं अथवा कोई व्यक्ति भाषण आदि द्वारा अपने विचार प्रकट करता है तो उसे भाषा का मौखिक रूप कहते हैं।

लिखित भाषा

जब व्यक्ति किसी दूर बैठे व्यक्ति को पत्र द्वारा अथवा पुस्तकों एवं पत्र-पत्रिकाओं के द्वारा अपने विचार प्रकट करता है और उसे संदेश भेजता है तब उसे भाषा का लिखित रूप कहते हैं।

सांकेतिक भाषा (Symbolic /Language)

सांकेतिक भाषा वह भाषा होती है जन हमे अपनी बातों समझाने के लिए संकेतों इशारों की सहायता से उंगलियों का सहारा आँखों से चेहरे की सहायता समझा सकते है |

भाषा की प्रकृति Nature of Language

भाषा नदी के जल के समान सदा चलती एवं बहती रहती है. जिस प्रकार से नदी धरातल के अनुसार अपने स्वरूप को ग्रहण करती है, ठीक उसी प्रकार से भाषा भी देश

भाषा की विशेषताएं Features of Language

भाषा का संबंध मनुष्य से है भाषा परिवर्तनशील है भाषा की क्षेत्रीय सीमा होती है भाषा प्रतीकात्मक है भाषा ध्वनिमय है